Category

धर्म प्रवाह

अपना अपना स्वभाव

एक बार एक भला आदमी नदी किनारे बैठा था। तभी उसने देखा एक बिच्छू पानी में गिर गया है। भले आदमी ने जल्दी से बिच्छू...
Read More

संतोष में है सच्चा सुख

एक ग़ुलाम था एक दिन वह काम पर नहीं गया.मालिक ने सोचा इस कि तन्खोआह बढ़ा दी जाये तो यह और दिल्चसपी से काम करेगा.अगली बार जब उस को तन्खोआह...
Read More

पंडितजी को ज्ञान बोध

एक पंडित जी थे। उन्होंने एक नदी के किनारे अपना आश्रम बनाया हुआ था। पंडित जी बहुत विद्वान थे। दूर-दूर तक उनकी ख्याति थी और...
Read More